आज का सुविचार # जागृति # प्रेरणादायी # Quotes #

हथेली तब भी छोटी थी
हथेली अब भी छोटी है
पहलेखुशियाँबटोरने में चीजें छूट जातीं थीं ,
अब चीजें बटोरने मेंखुशियाँछूट जातीं हैं
बदन है मिट्टी का,सांसे सारी उधार हैं
घमण्ड भी है तो किस बात का,यहाँ हम सब किरायेदार हैं
दर्द एक संकेत है कि आप ज़िंदा हो
समस्या एक संकेत है कि आप मजबूत हो
प्रार्थना एक संकेत है कि आप अकेले नही हो

आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता
जय सच्चिदानन्द 🙏🙏