आज का मृदु विचार # जागृति # प्रेरणादायी # Quotes #

1. ना झुकने की अभिलाषा है

ना झुकाने की अभिलाषा है

कुछ सम्बन्ध हृदय से जुड़े है

केवल उन्हें निभाने की अभिलाषा है

2. शब्द भी एक तरह का भोजन है

किस समय कौन सा शब्द परोसना है,

वो जाये तो दुनियां में उससे बढ़िया रसोइया कोई नहीं है

3. जैसे जैसे स्वार्थ घटता है

वैसे वैसे जीने का आनंद बढ़ता है

4. हमारा वास्तविक चित्र

हमारा चरित्र ही होता है

5. जिन्दगी है ही अनिश्चिताओ से भरी हुई

इसलिये आने वाले कल की चिंता किये बग़ैर

वर्तमान जिन्दगी के हर पल का भरपूर आनंद ले

5. मन का मिलना बहुत कठिन है और उसका फटना बहुत सरल है

मन के फटते ही प्रीति नष्ट हो जाती है

वैसे ही जैसे कि दूध के फटते ही उसमें से घी विलीन हो जाता है

मोती के फटते ही उसकी कीमत समाप्त हो जाती है

इसलिये सबसे प्रेम भावना रखना ही उत्तम है इससे मन शांत निर्मल निश्चित रहता है

आपकी आभारी विमला
जय सच्चिदानंद 🙏🙏

5.