किसी ने क्या खूब कहा है # जागृति # प्रेरणादायी# Quotes #

हर ख़ुशी है लोगों के दामन में

पर एक हँसी के लिए वक़्त नहीं

दिन रात दौड़ती दुनिया में

ज़िंदगी के लिए वक़्त नहीं

माँ की लोरी का एहसास तो है

पर माँ को मॉ कहने का वक़्त नहीं

सारी रिश्तों को तो हम मार चुके

अब उन्हें दफ़नाने का भी वक़्त नहीं

ग़ैरों की क्या बात करें

जब अपनों के लिए ही वक़्त नहीं

आँखों में हैं नींद बड़ी

पर सोने के लिए भी वक़्त नहीं

दिल है घावों से भरा हुआ

पर रोने का भी वक़्त नहीं

पैसों की दौड़ में ऐसे दौड़े

कि थकने का भी वक़्त नहीं

पराये एहसासो की क्या क़दर करे

जब अपने सपनों के लिए ही वक़्त नहीं

तू ही बता ज़िंदगी

इस ज़िंदगी का क्या होगा

कि हर पल मरने वालों को

जीने के लिए भी वक़्त नहीं

2. रिश्ते निभाये पर उन्हें बेड़िया मत बनाइए

प्रीत कीजिए पर किसी की जकड़न मत बनिए

साथ चलिए पर गुंजाइश रखिए अपने मोड़ पर मुड जाने की

आपकी आभारी

विमला