सोच # रिश्ते # जागृति # परिवार और रिश्ते # Quotes #

1. सच बोलने से फ़ैसले होते हैं और झूठ बोलने से फ़ासले होते हैं

मन में बात रखने से बेहतर साफ़ साफ़ बोल देना अच्छा है

2. मन में कुछ भरकर जिएंगे तो

मन भर कर जी नहीं पाएंगे

3. साफ़ साफ़ ठुकरा देना

झूठे वादों से कहीं बेहतर है

4. आपके सामने जो दूसरों की बुराई करता है

उससे यह उम्मीद मत रखिए कि

वह दूसरों के सामने आपकी तारीफ़ करेगा

5. अधिकतर संबंध बिगड़ने का कारण

हम आधा सुनते है

चौथाई समझते है

शून्य सोचते है

लेकिन प्रतिक्रिया दुगुनी करते है

6. सचझूठ परखने का जज्बा रखो

कानों में जहर घोलना तो जमाने का काम है

विमला ✍🏽✍🏽