आज का उत्तम विचार # जागृति #प्रेरणादायी #प्रोत्साहन # रिश्ते #

1. मनुष्य की असली सम्पत्ति उसका हँसता खेलता परिवार,अच्छा स्वास्थ्य और

शुभ चिन्तक दोस्त और स्वयं का संतुष्ट मन है

2. जीवन वो फूल है जिसमें कॉटे तो बहुत है लेकिन सौन्दर्य की भी कोई कमी नहीं

चाहे तो कॉटे को कोसो , चाहे तो सौन्दर्य का आनंद लो

3. “प्यारइंसान से करो उसकीआदतसे नहीं

रुठोउनकी बातों से मगर उनसे नहीं

भूलो उनकीगलतियाँको पर उन्हें नहीं

आओ किसी कोपरखनेकी जिद को छोड़कर उसेसमझनेकी कोशिश करते हैं

क्योंकि सुंदर “रिश्तोंसे बढकर कुछ भी नहीं

4. संस्कार से संसार जीता जाता है

अहंकार से नही

5. बहुत आसान होता है कोई उदाहरण पेश करना

बहुत कठिन होता है खुद कोई उदाहरण बनना

6. संभालकर रखी हुई चीज और ध्यान से सुनी हुई बात

कभी ना कभी काम ही जाती है

7. दर्पण मे मुख

और

संसार में सुख होता नहीं है

बस दिखता है

8. जिन्दगी में उतार चढ़ाव तो आने ही है ,

इन परिवर्तनों से घबराना नही

अगर आप कुछ अच्छा खो सकते हो तो

उससे कहीं अच्छा हासिल भी कर सकते हो

9. वृक्ष कभी इस बात पर दुखी नहीं होता कि

उसने कितने पुष्प खो दिए

वह सदैव नए पुष्प के सृजन में व्यस्त रहता है

जीवन में कितना कुछ खो गया, इस पीड़ा को भूल कर,

क्या नया कर सकते हैं, इसी में जीवन की सार्थकता है

10. नफरतों में क्या रखा हैं ,

मोहब्बत से जीना सीखो

क्योकि ये दुनियाँ तो हमारा घर हैं

और ही आप का ठिकाना

याद रहे ,

दूसरा मौका सिर्फ कहानियाँ देती हैं ,

जिन्दगी नहीं

विमला की क़लम से ✍🏻✍🏻