आज का विचार # जागृति # प्रेरणादायी # पाप # सच # जिन्दगी # ग़ुस्सा # आध्यात्मिक विचार # quotes #

1. पाप का परिवार

पाप का पितालोभ

पाप की माताहिंसा

पाप की पत्नीमाया

पाप का पुत्रक्रोध

पाप की पुत्रीतृष्णा

पाप की बहनकुमति

पाप का भाईझूठ

2. दिमाग़ मे money

और जीवन में दुश्मनी

ये दोनों ही कष्ट देते है

3. उन व्यक्तियों के जीवन में आनंद और शांति

कई गुणा बढ़ जाती है

जिन्होंने प्रशंसा और निंदा में एक जैसा रहना सीख लिया है

4. सब कुछ हासिल नहीं होताजिन्दगीमे यहॉ

किसी काकाशतो किसी काअगररह ही जाता है

5. ग़ुस्से में कभी भी ग़लत शब्द ना बोलना दोस्तो

मूड ठीक होने पर ग़ुस्सा तो शांत हो जायेगा

बोली गयी बाते वापस नहीं आयेगी

6. जिन्दगी मे खुश रहना है तो

अपनेआप को शांत सरोवर की तरह बनाये

जिसमें अगर कोई अंगारा भी फैंक दे तो

वह खुद अपने आप से ठंडा हो जाये

7. पैसा अच्छी जिन्दगी जीने के लिये बेशक बड़ा होता है

पर इतना बड़ा भी नहीं कि प्यार से जुड़े रिश्ते ख़रीद सके

8. जिंदगी में पीछे देखोगे तो अनुभव मिलेगा

जिंदगी में आगे देखोगे तो आशा मिलेगी

दाये बाये देखोगे तो सत्य मिलेगा

लेकिन अगर भीतर देखोगे तो आत्मविश्वास मिलेगा

9. हर ठोकर इंसान को गिराने के लिए नहीं लगती

कुछ ठोकरें सुधरने , संभलने और सीखने के लिये भी लगती है

10. दिमाग़ कुछ सोचे सोचे,

इंसान कुछ बोले बोले,

वक़्त के गर्त में छुपा सच

वक़्त के साथ सामने ही जाता है

शांत रह वक़्त की प्रतीक्षा करें

11. हम हर रोज बिजली का उपयोग करते है, और बिजली का बिल हर माह चुकाते है,

सूर्य देवता जो हमे प्रतिदिन रोशनी और ऊर्जा दे रहे है, यदि हम सूर्य देवता को बिल नही दे सकते तो कम से कम उनके आगे श्रद्धा से शीश झुकाकर शुक्रिया तो कर सकते है ना

हम अस्पताल मे ऑक्सीजन खरीदते है ,तो उसके पैसे देते है, पर ये पेड पौधे जो हम सबको फ्री मे ऑक्सीजन फल, फूल, लकडी, दवा, रूई इत्यादि अनेक वस्तुएँ देते है, तो हमे उन्हे भी सम्मान देकर अपना क़र्ज़ तो चुकता कर सकते है ना

हम एक बोतल स्वच्छ पानी खरीदते है, तो उसका भी बिल चुकता करना पड़ता है, पर ये पवित्र नदियॉ जो हमे अनगिनत लीटर स्वच्छ पानी फ्री मे देती है, तो हमे इन पवित्र नदियॉ का भी सम्मान जरूर करना चाहिये

यानि कि प्रकृति जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से जीवन जीने मे हमारी सहायता करती है ,उनका कर्ज हम श्रद्धा से सिर झुकाकर चुकता तो कर सकते है ना

12. “नाजल्दी बोलकर औरहॉदेरी से बोलकर

हम जिन्दगी मे बहुत सी चीजें खो देते है

13. जीवन एक अपार सम्भावनाओं की बहती नदी के समान है

यह आप पर निर्भर करता है कि आप बाल्टी लेकर खड़े हैं या चम्मच

सभी अनुभवों का स्वागत कीजिये,

पता नहीं कौन सा अनुभव आपकी जिंदगी बदल दे

14. समुद्र जैसा दिल होगा तो

नदियां ख़ुद आपसे मिलने आयेगी,

ईश्वर ने हमें धरती पर

एक खाली चेक की भांति भेजा है

गुणों तथा योग्यता के आधार पर

हमें स्वयं अपनी कीमत उसमें भरनी है

15. गलती निकालने के लिए बहुत तेज दिमाग चाहिये

लेकिन गलती क़बूल करने के लिये

बहुत सुंदर दिल होना चाहिए

16. क्रोध एक ऐसी अग्नि है जो दूसरों के लिये जलाई जाती है लेकिन जलता वह स्वयं है

इसलिये कहा जाता है क्रोध आये तो रूक जाइये और गलती हो तो झुक जाइये

जीवन में मिठास घोलने का इससे बेहतरीन कोई मार्ग नहीं होगा

17. बुराई करना रोमिंग की तरह है

करो तो भी चार्ज लगता है और सुनो तो भी चार्ज लगता है

भलाई करना जीवन बीमा की तरह है

जिंदगी के साथ भी और जिंदगी के बाद भी

पुण्य करते रहे और प्रीमियम भरते रहे

ऑटोमेटिक अच्छे कर्म का बोनस मिलता रहेंगा

18. वजह कोई हों, बात कैसी भी हो

क्रोध मे आकर तेज मत बोलो ,चिढ़ो मत

मन को शांत रखो ,सोचो ,फिर निर्णय लो

कभी भी आवाज़ से आवाज़ नहीं मिटती

बल्कि चुप्पी से मिटती है

तक़लीफ दुख सिर्फ आपको ही होगा

मन शांत रखोंगे तो सुख आपको ही मिलेगा

19. तारीफ चाहे आप किसी की कितनी भी करो या ना भी करो

किंतु अपमान बहुत ही सोच समझकर करना

क्योंकि अपमान वो ऋण हैं

जो हर कोई मौका मिलते ही

ब्याज सहित चुकाता अवश्य है

20. जिन्दगी मिली है तो कुछ करके दिखाओ

अगर वक्त ख़राब हो तो उसे बदल डालो

नामुमकिन को मुमकिन कर डालो

हिम्मत मत हारना ख़ुदा के बंदे

ईश्वर हमेशा तुम्हारे साथ है

विमला की क़लम से ✍🏼✍🏼