आज का विचार # आध्यात्मिक विचार # जागृति #प्रेरणादायी #प्रोत्साहन #quotes#

1. आनंद एक आभास है जिसे हर कोई ढूँढ रहा है

दुख एक अनुभव है

जो आज हर एक के पास है

फिर भी ज़िंदगी में वही क़ामयाब है

जिसको ख़ुद पर विश्वास है

2. श्रद्धा से ज्ञान,नम्रता से मान और योग्यता से स्थान मिलता है

यह तीनों मिल जाये तो व्यक्ति को हर जगह सम्मान मिलता है

3. कोई मेरे बारे में कुछग़लतकहे तो कह लेने दीजिए

मनहल्काकरने काहक़तो सभी को है जनाब !!

4. भीड़ में खोने से अच्छा है

एकांत में खो जाए

5. विकल्प बहुत मिलेंगे ,मार्ग भटकाने के लिए

संकल्प एक ही रखना ,मंज़िल तक जाने के लिए

6. संसार की अजब माया है ना ..…

ख़ाली हाथ जाना है फिर भी इंसान पूरी जिन्दगी बटोरने में लगा है

मनुष्य जन्म तब ही सार्थक है जो बटोरने के साथ बॉटता है और अपनी छाप छोड़कर जाता है

7. दुनिया की चार जगह कभी नहीं भरती

समुद्र

श्मशान

इच्छाओं का गड्डा

और मनुष्य का मन

8. “बुरे कर्मका फल बुराअच्छे कर्मका फल अच्छा

बुरा कर्म करने वाला इंसान अगर फलता फूलता देखा जाता है वो उसके बुरे कर्म का फल नहीं है

वह तो पूर्व भव के किसी शुभ कर्म का फल है जो अभी प्रकट हुआ है

अभी जो वह बुरा कर्म कर रहा है उसका फल तो आगे

चलकर मिलेगा ही

9. चाहे कितने भी शिक्षित हो , कितने भी अमीर हो ,

कितना भी ऊँचा ओहदा हो …..

पर भगवान को भूलने की गलती कभी मत करना

काल कर्म देखता है डिग्री , पैसा या ओहदा नही

10. जन्म और मरण अपने हाथ में नही

पर जीवन जीने का तरीक़ा तो अपने हाथ में है

कर्मो से जो करेगा fight

उसका पथ रहेगा हरदम bright

11. गुण और गुनाह दोनो की कीमत होती है

अंतर सिर्फ इतना है कि गुण की कीमत मिलती है

और गुनाह की कीमत चुकानी पड़ती है

12 जो करना है अभी करो

क्योंकि समय किसी का सगा नही

और सारे जग में ऐसा एक भी नही

जिसे भाग्य और नियती ने ठगा नही

13. दोस्तो ऊर्जा भी कमाल की होती है

भोजन से ऊर्जा मिलती है

नींद में ऊर्जा संग्रहित होती है

जागरण में ख़र्च होती है

प्राणायाम से जागती है

ध्यान से ऊपर चढ़ती है

भय से सिकुड़ती है

वासना से नीचे गिरती है

प्रेम में विस्तृत होती है

समाधि में विराट(अत्यंत विशाल)के साथ एक होती है

सर्वव्यापक में विलीन होती है

14. रूपया पैसा,सोने जेवरात, ज़मीन जायदादसामने है इसलिये इनके चले जाने का दुख हमेशा सताता है

किन्तु हमारी आयु का एक एक क़ीमती क्षण हर रोज़ घट रहा है जिसका हमें तनिक भी ख़्याल नही आता

महत्वपूर्ण बात यह है कि हमने मुनष्य जीवन का कितना सदुपयोग किया ?

15. एक आदमी की ऑंखो ने आम का पेड़ देखा ,खाने की इच्छा हुई हॉलाकि आंख तो आम तोड़ नही सकती

इसलिए उसे पेड़ के पास पैरों से चलकर जाना पड़ा पैर तो आम तोड़ नही सकते इसलिएहाथोंने आम तोड़े औरमुंहने आम खाएं और वो आमपेटमें गए….

अब देखिए जिसने देखा (ऑखे) वो गया नही, जो गया (पैर) उसने तोड़ा नही, जिसने तोड़ा (हाथ) उसने खाया नही, जिसने खाया (मुँह) उसने रखा नहीं क्योंकि वोपेटमें गया

जब माली ने देखा तोपीठपर डंडे पड़े जिसकी कोई गलती नहीं थी लेकिन जबपीठपर डंडे पड़े तोऑखमे आंसू आये

क्योंकि सबसे पहलेऑखने आम को देखा

अब यही हैकर्म का सिद्धान्त

16. मनुष्य की चालधनसे भी बदलती है औरधर्मसे भी बदलती है

फर्क इतना है कि जब इंसानधन संपन्नहोता है तब अकड़ कर चलता है औरधर्म सम्पन्नहोता है तोविनम्रहोकर चलता है

लेकिन जोधर्म संपन्नताया दोनों (धर्म संपन्नताधन संपन्नता ) से संपन्न होकर उदार मन से लोगों काकल्याणकरते है ऐसे इंसान लोगों के दिल में हमेशा ज़िंदा रहते है

17. रोती हुई आंखें कभी झूठ नहीं बोलती

क्योंकि ऑंखो मे ऑसू तभी झलकते है

जब व्यक्ति हार जाता है अपने आप से

वजह चाहे कोई भी हो …..

ऐसे हारे हुए व्यक्ति के कंधे पर जब कोई हाथ रखता है और कहता हैमैं हूँ ना

बस वही क्षण जहॉ सिर्फ और सिर्फ परमात्मा बसता है

18. पाप के भवन कितने हीशानदारऔरविशालक्यों ना हो ,

पुण्यकी छोटी सी कुटिया से अधिकसंतोषजनकएवंसुखदायककभी नहीं हो सकते

कर्मो से डरियेईश्वरसे नही

ईश्वरमाफकर देता है परकर्मनही

19. अच्छे और बुरे दोनों का अलग अलग महत्व है

अच्छा समय संसार को बताएगा कि

आपकी वास्तविकता क्या है

किंतु बुरा समय आपको बताएगा कि

इस संसार की वास्तविकता क्या है?

20 . मदद करना सीखिये – फायदे के बगैर
मिलना जुलना सीखिये – मतलब के बगैर
जिन्दगी जीना सीखिये – दिखावे के बगैर

अंधेरा वहां नहीं है, जहां तन गरीब है,
अंधेरा वहां है, जहां मन गरीब है

विमला की क़लम से ✍🏼✍🏼