संस्कार # जिंदगी की किताब (पन्ना # 319)

आज की भोगवादी संस्कृति ने उपभोगवाद को जिस तरह से बढ़ावा दिया है ,उससे बाहरी चमक दमक से ही इंसान को पहचाना जाता है जिसका परिणाम अच्छा नही है । वास्तव मे इंसान की पहचान संस्कारों से बनती है जो हमारे जीवन की शक्ति है । संस्कार उसके पूरे जीवन को दर्शाते है । उच्च…

रिश्ते # जागृति # Quote

Rishto ko thand lagnay ka khatra ho toh garmahat ke liye kuch der khamoshi ki shawl odh lene mein koi harz nahi. आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Good message # Quote

Smile at each other. Smile at your wife, smile at your husband, smile at your children, smile at each other . it doesn’t matter who it is ,and that will help to grow up in greater love for each other . — Mother Teresa Vimla Wilson

सबसे बड़ी दौलत # मन की शांति जिंदगी की किताब (पन्ना # 401)

मन की शांति जीवन की सबसे बड़ी दौलत है । कहते है ना ,मन शांत तो सूखी रोटी भी अच्छी लगती है और मन अशांत हो तो छप्पन भोग भी फीके लगते है । ऐसी नौकरी या व्यापार हो जिसमे रूपयों पैसो की आय तो बहुत हो ,पर रातों की नींद छीन ले या शांति…

वास्तविक स्वभाव मे रमण करे # जिंदगी की किताब (पन्ना # 397)

वास्तविक स्वभाव मे रमण करे तो जिन्दगी जीना सहज होगा वह भी एक सकुन के साथ । हर इंसान मे कुछ ना कुछ विशेष गुण (अच्छा गुण ) जरूर होता है , यदि वह इस विशेष गुण को किसी भी स्थिति मे बरकरार रखे तो वह अपना ध्येय आसानी से पूरा करने मे समर्थ हो…

नारी तेरे बिना अधूरी कहानी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 394)

नारी तेरे बिना अधूरी कहानी …..हालाँकि आज मे स्रियो के अधिकारो को लेकर जागरूकता बढ़ रही है फिर भी अभी और सुधार लाने की जरूरत है । समाज की उन्नति के लिये नारी का सम्मान करना बहुत जरूरी है ,क्योंकि नारी पुरूष का आधा अंग कहलाती है । क्या यह संभव है कि किसी का…

रिश्ते नाते # जिंदगी की किताब (पन्ना # 393)

जब हम फटे हुए दूध से रसगुल्ले बना सकते हैं, तो टूटे हुए रिश्तों को फिर से क्यों नहीं जोड सकते ।रूठे हुये को क्यों नही मना सकते ।पॉजिटिव सोच हो तो बंजर भूमि में भी फूल खिलाए जा सकते हैं। बिना इंतजार किये मोबाइल उठाये और सामने वाले से खुद आगे बढ़कर फोन करे…

स्त्री # जिंदगी की किताब (पन्ना # 380)

स्त्री प्रमुदित पल्लवित पहेली हैं, हर संकट के लिए सहारे की हथेली हैं। स्त्री इतिहास की नदी है जो बहती सदी दर सदी हैं, स्री पारखी हैं, जानती क्या नेकी क्या बदी हैं स्त्री धरती हैं जिसने झेला हर झमेला है पंच तत्वों के मिलन का अदभुत मेला हैं । आपकी आभारी विमला विल्सन जय…

शादी का लड्डू खाया जाये ना खाया जाये # जिंदगी की किताब (पन्ना # 379)

शादी का लड्डू खाया जाये ना खाया जाये हमेशा कहा जाता है शादी का लड्डू खाये तो पछताये ना खाये तो पछताये पर शादी का लड्डू खाने के लिये नही बॉटने के लिये होता है पारिवारिक दूरियों को पाटने के लिये होता है । आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Good message # Quote

To remain cheerful, congratulate the self and congratulate others on their speciality . Vimla wilson Jay sat chit anand 🙏🙏

मन – जिंदगी की किताब (पन्ना # 338 )

यह दुनिया मन से बड़ी लुटेरी ना तेरी है ना मेरी यह दुनिया मन से बड़ी लुटेरी ।। मुँह मे राम राम दिल मे हेरा फेरी है यह दु ng> मन से बड़ी लुटेरी मानव भी माछर से क्या कम माछर जब भी काटे तो घूँ घूँ करके करता पुकार लेकिन चुपचाप काटे दुनिया जब…